हिन्दी विभाग

सन 1997 – महाविधालय एव विभाग की स्थापना।

पाठयक्रम का उदद्ेश्यः- उच्च शिक्षा में पाठ्यक्रमों को सामाजिक प्रासंगिकता देने के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा अनुशंसित मार्गदर्शी सिद्धांतों के अनुसार आधार पाठ्यक्रम (हिन्दी भाषा) की शुरूवात हुई। जिसका उद्देश्य विद्यार्थियों में सम्प्रेषण कौशल के विकास के साथ ही साथ, विभिन्न विषयों की बुनियादी अवधारणाओं का ज्ञान तथा देश की संस्कृत, विरासत, भारतीय जीवन मूल्य और समाज व्यवस्था, राष्ट्रिय उपलब्धियों और विकास की दिशाओं के साथ विश्व के आधुनिक परिदृश्य का बोध जागृत करना है।

Department of Bio Chemistry

पाठ्यक्रम संचालित

समस्त स्नातक पठ्यक्रमों मे अनिवार्य विषय (यथा - बी. ऐस. सी., बी. कॉम, बी. बी. ए. - द्वितीय सेमेस्टर)
क्र पाठ्यक्रम संचालित स्थापना
1. बी.एस.सी. 1997
2. बी. कॉम (I II & III) 1997
3. बी.बी.ए.-द्वितीय सेमेस्टर 1991

विभागीय गतिविधियाँ

  1. 30/01/2014 अतिथि व्याख्यान
    विषयः- ''भूमण्डलीय युग और हिन्दी'' व हिन्दी की ऐतिहासिकता एवं प्रासंगिकता

  2. 09/09/2014
    श्रीराम चन्द्र मिशन तथा संयुक्त राष्ट्र सूचना केन्द्र भारत व भूटान की सहकारिता में आयोजित अखिल भारतीय निबंध प्रतियोगिता विषयः- ''सत्यनिष्ठ होना ही मानवीय होना है।''

  3. 15/09/2014 पोस्टर प्रतियोगिता
    विषयः- जल संरक्षण

  4. 13/09/2014 नारा प्रतियोगिता
    विषयः- राष्ट्रभाषा हिन्दी

  5. 30/01/2014 नारा प्रतियोगिता
    राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की पुण्यतिथि पर नारा प्रतियोगिता का आयोजन
    विषयः- ''नशा-मुक्ति''

  6. 30/11/2013 कविता पाठ -मुख्य अतिथि डॉ. शरद कोकस (समसामयिक कवि)

  7. 19/09/2013 श्री रामचन्द्र मिशन द्वारा आयोजित अखिल भारतीय निबंध लेखन प्रतियोगिताः
    विषयः- ''आप जिस पर नजर डालते है उसका उतना महत्व नही है जितना कि उसका जिसे आप वाकई देखते है।'' हेनरी डेविड थोरो

  8. 18 सितम्बर 2013. साहित्य प्रश्नोत्तरी एवं कहानी पठन
  9. 15 सितम्बर 2013 हिन्दी परिषद् का गठन

विद्यार्थियों की गैर शैक्षणिक उपलब्धियाँः

महाविद्यालयीन स्तरीय प्रतियोगिताः
  1. नारा प्रतियोगिता
    प्रथम स्थानः- कु. जूही गोस्वामी (बी.एस.सी. -तृतीय वर्ष)
    द्वितीय स्थानः- कु. प्रियंका दास (बी.एस.सी. -तृतीय वर्ष)

  2. साहित्य प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता
    प्रथम स्थानः- प्रसाद समूह
    द्वितीय स्थानः- प्रेमचंद समूह

  3. अखिल भारतीय निबंध लेखन
    प्रथम स्थानः- विजय लक्ष्मी - (एम.एस.सी. तृतीय सेमेस्टर)
    द्वितीय स्थानः- सरनजीत कौर - (बी.सी.ए. तृतीय वर्ष)

लघुशोध परियोजना

क्र परियोजना का शीर्षक निधिकरण एजेंसी का नाम अनुदान की रकम स्थिति
1. स्वातंत्र्योतर हिन्दी लघुकथा साहित्य में मूल्य संक्रमण की अभिव्यक्ति यू.जी.सी. - सी आर ओ भोपाल 181500.00 /- जमा

प्रकाशित शोध कार्य का विवरण

क्र प्राध्यापक का नाम प्रकाशित शोध पत्रों की संख्या संगोष्ठियों व परिचर्चा में प्रस्तुत शोधपत्रों की संख्या संगोष्ठियों व परिचर्चा में सहभागिता की संख्या कार्यशाला में सहभागिता की संख्या विकास कार्यक्रम पुस्तक प्रकाशित
अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ओरियेंटेशन
1 डॉ. अर्चना झा 06 12 - 19 - 21 02 01 01
2 डॉ. श्रद्धा मिश्रा - 06 - 04 - - 01 01 -

विभिन्न समितियों के सदस्य

डॉ. अर्चना झा
  1. सचिव - प्राध्यापक परिषद्
  2. सयोजिका - महिला प्रकोष्ठ
  3. सदस्य
    1. शासी निकाय के सदस्य
    2. अनुसंधान समिति के सदस्य
    3. क्रय समिति के सदस्य
    4. समय सारणी के सदस्य
    5. पुस्तकालय समिति के सदस्य
    6. यू.जी.सी. समिति के सदस्य
    7. आंतरिक गुणवत्ता आश्वासन प्रकोष्ठ (IQAC) के सदस्य
    8. प्रवेश समिति (बी.एस.सी.)
  4. प्रभारी
    1. द्वितीय पाली
    2. रोटरेक्ट क्लब
  5. उपाध्यक्ष - प्रेरणा शिक्षक संघ (श्री शंकराचार्य महाविद्यालय द्वारा संचालित)
  6. प्रधान संपादक - महाविद्यालयीन पत्रिका क्षितिज
  7. प्रधान संपादक - अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्रिका सोसल साइंस रिपोर्टर विशेषांक - अप्रेल 2013 (ISSN.2231.078).
डॉ. श्रद्धा मिश्रा
  1. प्रभारी
    1. सांस्कृतिक प्रकोष्ठ
    2. कंैटिन
  2. सदस्य
    1. अनुशासन समिति
    2. प्रेरणा शिक्षक संघ (श्री शंकराचार्य महाविद्यालय द्वारा संचालित)

प्राध्यापकों की सूची

S.No. Name of Faculty Qualification Experience (in Years) Designation Email ID
1. डॉ. अर्चना झा एम.ए(हिन्दी),पीएच.डी, एम.ए (शिक्षा) 16 विभागाध्यक्षा archanajha27@rediffmail.com
2. डॉ. श्रद्धा मिश्रा एम.ए(हिन्दी),पीएच.डी, एम.ए (शिक्षा) 12 सहायक प्राध्यापक

विभाग की शाक्ति

  • उच्च योग्यता प्राप्त शिक्षक।
  • शिक्षक व छात्रों के बीच अच्छा व्यवहार, स्वस्थ वातावरण व समन्वय।
  • निर्धारित समयानुसार पाठ्यक्रम का अध्यपन कार्य सम्पन्न।
  • इकाई परीक्षा, आकस्मिक परीक्षा और माॅडल परीक्षा के माध्यम से छात्रों का निरंतर मूल्यांकन।
  • शिक्षक और जांच के कार्यक्रम पूर्व निर्धारित।

अवसर

  • स्वस्थ माहौल में छात्रों को अपने गुणों व क्षमताओं में सुधार हेतु उत्कृष्ट मार्गदर्शन।
  • यू.जी.सी. द्वारा अनुसंधान परियोजना हेतु वित्तिय सहायता प्राप्त।
  • केन्द्रीय पुस्ताकलय में व्शकरण, साहित्य व संदर्भ ग्रंथों का विशाल संग्रह है।
  • हिन्दी राष्ट्रभाषा होने के कारण विद्यार्थियों के व्यक्तित्व व आत्मविश्वास के स्तर को बढ़ाती है। जिससे विद्यार्थी भारत के प्रमुख भागों में जाने में सक्षम है।
  • समाज में अपने आप को प्रतिष्ठित कर श्रेष्ठ विद्यार्थियों का निर्माण करना चाहते है।

पाठ्यक्रम द्वारा अवसरो की उपलब्धता

  1. सरकारी संस्थानों एवं सार्वजनिक उपक्रमों में हिन्दी अनुवादकों एवं हिन्दी अधिकारियों की नियुक्ति।
  2. बैंकों में हिन्दी अधिकारियों की नियुक्ति
  3. प्रिंट मीडिया एवं इलेक्ट्राॅनिक मीडिया में विभिन्न पदों में नियुक्ति।
  4. फिल्म, दूरदर्शन, विज्ञापन, डिस्कवरी चैनल आदि में हिन्दी में डबिंग करने हेतु नियुक्ति।
  5. कुछ बहुराष्ट्रीय कम्पनियों द्वारा हिन्दी भाषा के जानकारों को प्राथमिकता।
  6. विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में भी हिन्दी माध्यम की सुविधा।
  7. विभिन्न खेलों हेतु कमेन्टेटर की नियुक्ति।
  8. स्कूलों, महाविद्यालयो, विश्वविद्यालयों में हिन्दी अध्यापन-प्राध्यापन हेतु शिक्षकों - प्राध्यापकों के रूप में नियुक्ति।